प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना”pradhan mantri matsya sampada yojana

pradhan mantri yojana

प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना 2020|पीएम मत्स्य संपदा योजना|मत्स्य संपदा योजना|प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना 2020 आवेदन फॉर्म|प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना आवेदन|प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना PDF|प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना क्या है|Pradhan Mantri Matsya Sampada Yojana|matsya sampada yojana|pm matsya sampada yojana

आज हम अपने इस आर्टिकल के माध्यम से प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना 2020 की जानकारी देने जा रहे हैं| भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने अपने बजट में पीएम मत्स्य संपदा योजना की शुरुआत की है| हम आपको बताएंगे आप किस प्रकार मत्स्य संपदा योजना का लाभ उठा सकते हैं|Pm Matsya Sampada Yojana मछलीपालन और मछुआरा समुदायों को फायदा पहुंचाने पर भी फोकस किया गया. वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बजट भाषण में एलान किया|

प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना (Pradhan Mantri Matsya Sampada Yojana) के माध्यम से मात्सियिकी विभाग एक सुदृढ़ मात्स्यिकी ढ़ांचे की स्थापना की जाएगी| इसके तहत प्राइस चेन को सुदृढ़ करने संबंधी महत्वपूर्ण खामियों का समाधान किया जाएगा|इनमें इंफ्रास्ट्रक्चर, आधुनिकीकरण, पता लगाने की योग्यता, उत्पादन, उत्पादकता, पैदावार प्रबंध और गुणवत्ता नियंत्रण शामिल हैं|इस योजना को मछली पालन को बढ़ावा दिये जाने के लिए भी शुरू किया गया हैं, क्योंकि यह एक बहुत ही महत्वपूर्ण क्षेत्र हैं, जिससे मछली के उत्पादन में भी वृद्धि होगी|

प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना क्या है

Pradhan Mantri Matsya Sampada Yojana 2020 के माध्यम से मछुआरा समुदाय से संबंध रखने वाले लोगों के लिए ऋण की सुविधा आसान की जाएगी, ताकि जलीय क्षेत्रों में भी जलीय उत्पादों से संबंधित या अन्य को व्यवसाय करने में बढ़ावा मिले|Pradhan Mantri Matsya Sampada Yojana के तहत छोटे और पारंपरिक मछुआरों के लिए आइस-बॉक्स या आइस-प्लांट्स जैसे स्टोरेज और इंफ्रास्ट्रक्चर टूल्स वगैरह की उपलब्धता सुनिश्चित की जाएगी। सरकार एक्वाकल्चर को प्रमोट करने के लिए इस सेक्टर में लोन लेना आसान बनाना चाहती है।

मत्स्य संपदा योजना ( Matsya Sampada Yojana) में सरकार समुद्री खर-पतवार यानी सी-वीड मोतियों और सजावटी मछलियों की फार्मिंग की सुविधा देगी ताकि बिजनेस में मछुआरों को बेहतर रिटर्न मिल सके।

सरकार इस योजना के तहत सभी मछुआरों या मत्स्य पालकों को फार्मर वेलफेयर प्रोग्राम्स और एक्सीडेंट इंश्योरेंस के लिए एक्सपैंडेड कवरेज के साथ सोशल सिक्योरिटी स्कीम्स का लाभ देना चाहती है।

New Update— प्रधानमंत्री मत्स्य सम्पदा योजना) की शुरुआत कर दी। साथ ही e-Gopala App भी लांच कर दिया गया। PMMSY देश में मछली पालन क्षेत्र के केंद्रित और सतत विकास के लिए एक प्रमुख योजना है, जिसमें 2020-21 से 2014-25 तक 20,050 करोड़ रुपए का बजट रखा गया है। यह ऐलान आत्मानिभर भारत पैकेज का हिस्सा है। इन सुविधाओं से मछली पालन के लिए गुणवत्ता और सस्ती मछली बीज की समय पर उपलब्धता सुनिश्चित की जाएगी। साथ ही मछली के उत्पादन और उत्पादकता में वृद्धि करने में मदद मिलेगी। इस योजना का उद्देश्य 2024-25 तक मछली उत्पादन को अतिरिक्त 70 लाख टन बढ़ाना है।

प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना के लाभ

  • इसके तहत मछुआरों के लिए 19-20 में ढांचे को सुदृढ़ किया जाएगा।
  • इसके तहत नए टैंकों का निर्माण किया जाएगा। मछली उत्पादन को बढ़ाने के लिए नए प्रयास किए जाएंगे। मछुआरों को जाले व नए टैंक दिए जाएंगे।
    मछली पकड़ने पर प्रतिबंध दो माह के लिए लगाया जाता है। जून व जुलाई में मछुआरे मछली नहीं पकड़ पाते हैं।
  • इन दो माह में मछुआरों को तीन हजार रुपये दिया जाता है। वहीं अगर तूफान आने पर जाल बह जाए या किश्ती टूट जाए तो उसका भी मुआवजा प्रदेश सरकार देती है|
  • लेकिन केंद्र सरकार के बजट में इन सब बातों का ख्याल रखते हुए मछुआरों की आर्थिकी को और बेहतर बनाने के लिए बजट का प्रावधान किया गया है।

प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना 2020 आवेदन फॉर्म

  • दोस्तों जल्द ही प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना के लिए ऑनलाइन आवेदन रजिस्ट्रेशन पंजीकरण शुरू हो जाएंगे|
  • जो भी व्यक्ति इस योजना के लिए भाग लेना जाता है वह ऑनलाइन फॉर्म भर कर योजना का लाभ ले सकता है|

प्यारे दोस्तों प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना की जानकारी किस प्रकार लगी| अगर आप इस योजना से संबंधित कोई प्रश्न पूछना चाहते हैं हमारे कमेंट बॉक्स पर लिख दीजिए| हम उसका उत्तर अवश्य देंगे| आप हमारे फेसबुक पेज को लाइक और शेयर कर सकते हैं| लाइक और शेयर करने से प्रधानमंत्री की योजनाओं के साथ अपडेट रहेंगे|

7 thoughts on “प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना”pradhan mantri matsya sampada yojana

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *