(PGDSA) प्रधानमंत्री ग्रामीण डिजिटल साक्षरता अभियान

download-7.jpg

प्रधानमंत्री ग्रामीण डिजिटल साक्षरता अभियान|प्रधानमंत्री डिजिटल योजना|प्रधान मंत्री ग्रामीण डिजिटल योजना|राष्ट्रीय डिजिटल साक्षरता अभियान|डिजिटल साक्षरता अभियान|

भारत के प्यारे देशवासियों प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने एक नया अभियान जारी किया है|इस अभियान का नाम प्रधानमंत्री ग्रामीण डिजिटल साक्षरता अभियान रखा गया है प्रधानमंत्री डिजिटल योजना से गांव के लोगों को स्वच्छता के बारे में बताना है| इसलिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने ग्रामीण डिजिटल योजना की पहल की है| राष्ट्रीय डिजिटल साक्षरता अभियान का मुख्य उद्देश्य ग्रामीण इलाकों के लोगों को स्वच्छता के बारे में बताना है| डिजिटल साक्षरता अभियान जिसमें भारत के छह करोड़ ग्रामीण नागरिकों को डिजिटल रूप से साक्षर बनाने की परिकल्पना की गई है| इस योजना से डिजिटल वित्तीय लेन-देन और सूचना ज्ञान को बढ़ावा मिलता है| जो भी डिजिटल रूप से समाज को शिक्षक बनाने के लिए इस योजना का गठन किया है| ताकि गांव के लोग भी डिजिटल इंडिया में आ सकें और डिजिटल रूप के द्वारा लेनदेन कर सकें इसलिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने ग्रामीण डिजिटल साक्षरता अभियान चलाया है|

प्रधानमंत्री ग्रामीण डिजिटल साक्षरता अभियान (PMGDSA)एक नई आगामी योजना है। 8 फरवरी 2017 को केंद्रीय कैबिनेट की बैठक में इस योजना को मंजूरी दे दी गई है। 2,351.38 करोड़ रुपये की योजना के माध्यम से मार्च 2019 तक 6 करोड़ ग्रामीण परिवारों को डिजिटल रूप से साक्षर बनाना लक्ष्य रखा गया है। केंद्रीय मंत्रिमंडल ने प्रधानमंत्री की अध्यक्षता में डिजिटल इंडिया पहल के तहत मार्च 2019 तक योजना को लागू करने के लिए 2,351.38 रुपये के परिव्यय के साथ इस योजना को मंजूरी दे दी है।

प्रधानमंत्री ग्रामीण डिजिटल साक्षरता अभियान 

प्रधानमंत्री ग्रामीण डिजिटल साक्षरता अभियान (PMGDSA) शुरू होने के बाद दुनिया का सबसे बड़ा डिजिटल साक्षरता कार्यक्रम होगा। इस योजना को राज्य कार्यान्वयन एजेंसियों, जिला ई-गवर्नेंस सोसायटी (DeGS), आदि के माध्यम से राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के सक्रिय सहयोग से इलेक्ट्रानिक्स मंत्रालय की देखरेख में लागू किया जाएगा।

योजना को बहुत जल्द ही शुरू किया जाएगा क्योंकि सरकार ने चालू वित्तीय वर्ष के भीतर करीब 25 लाख उम्मीदवारों को प्रशिक्षित करने का लक्ष्य रखा है। 6 करोड़ में से 2.75 करोड़ को वित्तीय वर्ष 2017-18 में प्रशिक्षित किया जाएगा और बाद में वित्तीय वर्ष 2018-19 में 3 करोड़ लोगों को प्रशिक्षित किया जायेगा।

ग्रामीण भारत के 6 करोड़ नागरिकों को दो साल के भीतर बेसिक डिजिटल साक्षरता प्रशिक्षण प्रदान करने के लिए योजना को फरवरी 2017 में शुरू किया गया, योजना के तहत हर घर से कम से कम एक व्यक्ति को लक्षित करने की योजना है।

PMGDISHA के तहत प्रशिक्षित नागरिकों को कंप्यूटर, टैबलेट, स्मार्ट फोन जैसे डिजिटल उपकरणों के संचालन में कुशल बनाने और उन्हें अपने कौशल और ज्ञान को बढ़ाने के लिए है ताकि वे अपने दैनिक जीवन में इंटरनेट का इस्तेमाल करके सरकार की नागरिक सेवाओं, स्वास्थ्य सेवा, और वित्तीय सेवाओं का उपयोग कर सकें।

योजना का उद्देश्य नागरिकों के बीच डिजिटल वित्तीय लेनदेन को सक्षम करने के लिए ध्यान केंद्रित करना है। आधार संख्या को लाभार्थी के बैंक खाते से जोड़ने से पहले ही नागरिकों को विभिन्न ऑनलाइन सरकारी सेवाएँ प्रदान की जाएंगी जैसे कि रेलवे टिकट की बुकिंग, पासपोर्ट का आवेदन आदि। सक्रिय रूप से प्रशासन में प्रशिक्षण के बाद नागरिकों को तकनीक लाभ उठाने और भाग लेने में सक्षम बनाना है।

प्रधानमंत्री ग्रामीण डिजिटल साक्षरता अभियान (PMGDSA) के माध्यम से डिजिटल भारत के उद्देश्य को पूरा करने में मदद मिलेगी। साक्षर लोगों को ऑनलाइन कैशलेस लेनदेन के बारे में भी प्रशिक्षण दिया जाएगा जिससे केन्द्र सरकार की कैशलेस भारत पहल में भी योगदान मिलेगा। लोगों को मोबाइल बैंकिंग और इंटरनेट बैंकिंग का उपयोग करने में सक्षम किया जायेगा।

सरकार ने इस योजना के तहत ग्रामीण भारत को डिजिटल रूप से साक्षर बनाने का फैसला लिया गया है। एनएसएसओ (NSSO) के 2014 के सर्वेक्षण के अनुसार 16.85 करोड़ ग्रामीण परिवारों में से केवल 1.8 करोड़ परिवारों के पास कंप्यूटर है। इस प्रकार से शेष 15 करोड़ परिवारों में से ज्यादातर के डिजिटल अनपढ़ होने की संभावना है।

प्रधानमंत्री ग्रामीण डिजिटल साक्षरता अभियान प्रमुख बातें

  • सामान्य सेवा केंद्र (सीएससी) “डिजिटल इंडिया” पहल के अभिन्न अंग हैं।
  • सीएससी,आईसीटी ग्रामीण स्तर पर सरकार की फ्रंट-एंड सेवा वितरण बिंदुओं को सक्षम करती है।कृषि, स्वास्थ्य, शिक्षा, मनोरंजन, FMCG उत्पाद, बैंकिंग, बीमा, पेंशन,और बिल भुगतान आदि के क्षेत्रों में सरकार वित्तीय, सामाजिक और निजी क्षेत्र की सेवाएं प्रदान करेगी।
  • सीएससी केंद्र एक गांव स्तर के उद्यमी (व्हीएलई) द्वारा प्रबंधित और संचालित किया जाता है।
  • पुरे देश में 2.6 लाख सीएससी हैं और 4 से 5 व्यक्तियों को रोजगार प्रदान करने के साथ प्रत्येक सीएससी 90% महिलाओं द्वारा प्रबंधित और संचालित किया जाता है।

प्रधानमंत्री ग्रामीण डिजिटल साक्षरता अभियान  के लाभ

  • इस योजना से ग्रामीणों को डिजिटल टेक्नोलॉजी से नफरत कराया जाएगा|
  • ग्रामीणों को ऑनलाइन बैंकिंग के नए नए तरीकों के बारे में बताया जाएगा|
  • इस योजना के माध्यम से मोदी जी के डिजिटल इंडिया व कैशलेस इंडिया का सपना पूरा होगा|

प्रधानमंत्री ग्रामीण डिजिटल साक्षरता अभियान आवेदन

प्रधानमंत्री ग्रामीण डिजिटल साक्षरता अभियान में अगर आपने आवेदन करना है| तो आपको अपनी  ग्राम पंचायत जाकर प्रधान सरपंच पंच व अन्य व सदस्य से बात करके अपना नाम सूची में दर्ज करवा सकते हैं| हर ग्राम पंचायत से आवेदकों की सूची बनेगी और उसके बाद सूची सरकार के पास भेजी जाएगी सरकार द्वारा आवेदकों को शिक्षित करने के लिए शिक्षकों का चयन करके उनको हर ग्राम पंचायत में भेजा जाएगा इस प्रकार आप ग्रामीण डिजिटल साक्षरता अभियान में आवेदन कर सकते हैं|

इस योजना की अधिक जानकारी के लिए इस वेबसाइट पर क्लिक करें

दोस्तों  प्रधानमंत्री ग्रामीण डिजिटल साक्षरता अभियान आवेदन किस प्रकार कि  लगी आप हमें कमेंट करके बता सकते हैं  इससे संबंधित प्रश्न पूछ सकते हैं हम आपके प्रश्नों का जवाब जरुर देंगे आप हमारे फेसबुक पेज को लाइक और शेयर कर सकते हैं|

6 Replies to “(PGDSA) प्रधानमंत्री ग्रामीण डिजिटल साक्षरता अभियान”

  1. Vikas thakur says:

    Vikas thakur class 10 pregnant 61.5 state jharkhand dist garhwa

  2. Vikas kumar says:

    Vikas kumar

  3. Dharmendra patidar says:

    Dharmendra patidar From pipliya teh. Kukshi Distt Dhar MP

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

scroll to top