आज हम आपके लिए मध्यप्रदेश पंख योजना की जानकारी लेकर आएं|मध्य प्रदेश में 24 जनवरी को राष्ट्रीय बालिका दिवस के अवसर पर विशेष कार्यक्रम आयोजित किया गया. इस दौरान राज्य के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बालिकाओं के लिए ‘पंख अभियान’ की शुरुआत की सीएम ने इसके साथ ही ‘लाडली लक्ष्मी योजना‘ के अंतर्गत आने वाली बेटियों को छात्रवृत्ति की राशि भी वितरित की इस कार्यक्रम के लिए प्रदेश के समस्त जिलों से लगभग 50 लाख लोग ऑनलाइन जुड़े|मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि बेटियों की सुरक्षा (प्रोटेक्शन), जागरूकता (अवेयरनेस), पोषण (न्यूट्रीशन), ज्ञान (नॉलेज) तथा स्वास्थ्य (हेल्थ) का अनूठा अभियान है ‘पंख’ (PANKH)। मध्यप्रदेश में बेटियों और महिलाओं के विकास की राह की सभी बाधाओं को दूर किया जाएगा।

बेटियां आकाश से आगे जाकर अंतरिक्ष तक उड़ान भरें, इसके लिए पूरी ताकत से ‘पंख’ अभियान का संचालन मिशन मोड पर किया जाएगा। बेटियों के साथ अपराध करने वाले तत्वों को सरकार ‘क्रश’ कर देगी। ऐसे अपराधियों की सम्पत्ति नष्ट कर दी जाएगी। सजा भी ऐसी देंगे कि जमाना याद करेगा।आज से प्रारंभ पंख अभियान अनूठा है जो बालिकाओं के संरक्षण, जागरण, पोषण, ज्ञान, स्वास्थ्य, स्वच्छता का प्रतीक है। पी से प्रोटेक्शन, ए से अवेयरनेस, एन से न्यूट्रीशन, के से नॉलेज एवं एच से हेल्थ व हाइजीन के माध्यम से बेटियों की सुरक्षा, स्वास्थ्य एवं सर्वांगीण विकास सुनिश्चित किया जाना है।

MP पंख योजना 2021

सीएम ने बताया कि इस योजना का मुख्य उद्देश्य बेटियों के शारीरिक, मानसिक, भावनात्मक एवं मनोवैज्ञानिक विकास से है. जिससे प्रदेश की बेटियों का समग्र विकास होगा. सीएम के संबोधन के बाद ‘मध्य प्रदेश गान’, ‘लाडली लक्ष्मी योजना’ पर नृत्य नाटक और ‘जीने दो’ गाने का प्रस्तुतीकरण हुआ. सीएम ने बालिका सशक्तिकरण के लिए तैयार की गई पुस्तिका ‘पंख’ का विमोचन भी कार्यक्रम के दौरान कर इस अभियान की आधिकारिक शुरुआत की|

मध्यप्रदेश पंख अभियान के लाभ

यह अभियान बालिकाओं और महिलाओं की निराशा को दूर करेगा। भारत सरकार की ‘बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ’ योजना किशोरियों को चहुंमुखी विकास में मदद करती है।

मध्यप्रदेश में इसे नया स्वरूप दिया गया है। पंख अभियान भी इस योजना का ही हिस्सा है, जिसके अंतर्गत अगले दो महीनों की गतिविधियों का कैलेण्डर तैयार किया गया है।

अभियान के अंतर्गत जिला स्तर पर विभिन्न विभागों के सहयोग से किशोरियों के स्वास्थ्य, शिक्षा और सुरक्षा को सुनिश्चित किया जाएगा। किशोरियों का डाटाबेस तैयार किया जाएगा। इससे उनके विकास में सहयोग मिलेगा। जनप्रतिनिधि और अशासकीय संस्थाओं को भी अभियान से जोड़ा जाएगा।

बालिका जन्म को प्रोत्साहन, बाल विवाह प्रतिषेध अधिनियम, पॉक्सो एक्ट, दहेज प्रतिषेध अधिनियम के प्रचार-प्रसार, किशोरियों और उनके अभिभावकों को कुप्रथाओं की समाप्ति के लिए जागरूक करना, किशोरियों को अपने अधिकारों के प्रति जागरूक बनाना, उनके पोषण के स्तर को सुधारना, पंचायत स्तर पर वोकेशनल ट्रेनिंग देना और उनकी नेतृत्व क्षमता विकसित करना अभियान के अंग हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि मध्यप्रदेश में गांव की बेटी योजना, प्रतिभा किरण योजना, मातृ वंदना योजना, उदिता योजना, वन स्टॉप सेंटर का संचालन, लाडो अभियान का संचालन सभी का उद्देश्य किशोरियों और महिलाओं की ताकत बढ़ाना है।

मध्य प्रदेश सरकार ने बेरोजगारी भत्ता योजना

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *