छत्तीसगढ़ के किसानों को धान बोनस|किसानों को धान बोनस छत्तीसगढ़|छत्तीसगढ़ के किसानों को धान बोनस योजना|

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री रमन सिंह ने कहा कि 13 लाख किसानों को 2100 करोड़ रुपये का बोनस इस दीपावली के पूर्व बांट दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि इस वर्ष 2017 का बोनस वर्ष 2018 में विकास यात्रा के दौरान वितरित किया जाएगा। यहां प्रदेश भाजपा कार्यालय कुशाभाऊ ठाकरे परिसर में गुरुवार को दोपहर मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने पत्रकारों को संबोधित करते हुए कहा, “प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह से मामले में सहमति मिल गई है। गुरुवार शाम तक आदेश भी जारी कर दिए जाएंगे। इससे प्रदेश के 13 लाख किसानों को सीधे तौर पर फायदा मिलेगा। इसके पूर्व सन 2013-14 में सरकार ने 2,374 करोड़ रुपये बोनस के तौर पर बांटे थे।

उन्होंने कहा, “बैठक में राष्ट्रीय अध्यक्ष के कार्यक्रमों के बारे में चर्चा की गई। वहीं प्रदेश के मंत्रियों, विधायकों और सांसदों को छोटे कार्यकर्ताओं से मिलने के लिए कहा गया है। बैठक में मिशन 2018 के लिए चर्चा की गई।विधानसभा नेता प्रतिपक्ष टी.एस. सिंहदेव ने कहा, “यह दबाव में लिया गया निर्णय है। सरकार ने पांच वर्ष तक बोनस देने की बात कही थी। जीएसटी के बाद किसानों पर बोझ पड़ा है। किसानों को जो वास्तविक क्षति हुई है उसकी पूर्ति होनी चाहिए।

छत्तीसगढ़ के किसानों को धान बोनस

  छत्तीसगढ़ में भारतीय जनता पार्टी की सरकार ने राज्य के किसानों को धान के लिए 300 रुपए बोनस देने का आदेश जारी कर दिया है। बीजेपी ने चुनावी घोषणा पत्र में किसानों को 300 रुपए बोनस देने का वादा किया था। आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि राज्य सरकार ने अपने घोषणा पत्र के एक बड़े वादे को पूरा करने के लिए धान उत्पादन पर किसानों के लिए प्रति क्विंटल 300 रुपए की दर से प्रोत्साहन राशि (बोनस) देने का औपचारिक आदेश जारी कर दिया है।

अधिकारियों ने बताया कि सहकारी समितियों के माध्यम से प्रोत्साहन राशि की 50 पर्सेंट की पहली किस्त 15 जुलाई तक वितरित की जाएगी। विभाग द्वारा पहली किस्त की प्रोत्साहन राशि के वितरण के लिए राज्य सहकारी विपणन संघ को 1,196 करोड़ रुपए जारी कर दिए गए हैं। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री रमन सिंह ने राज्य सरकार के चालू वित्तीय वर्ष 2014-15 के बजट में किसानों को तीन रुपए प्रति क्विंटल की दर से प्रोत्साहन राशि 2,400 करोड़ रुपए का प्रावधान किया है।

किसानों को धान बोनस छत्तीसगढ़

पिछले खरीफ विपणन वर्ष 2013-14 में राज्य के लगभग 11 लाख 76 हजार किसानों ने सहकारी समितियों में निर्धारित समर्थन मूल्य पर लगभग 79 लाख 70 हजार टन धान बेचा था। उन्हें इस प्रोत्साहन राशि का भी लाभ मिलेगा। अधिकारियों ने बताया कि यह प्रोत्साहन राशि 300 रुपए प्रति क्विंटल मिलेगी, जो पिछले खरीफ विपणन वर्ष 2012-13 के मुकाबले प्रति क्विंटल 30 रुपए अधिक होगी।

ख्यमंत्री ने कहा कि इस संबंध में उन्हें पीएम की हरी झंडी मिल चुकी है। इससे करीब 21 सौ करोड़ रुपये का बोझ राज्य सरकार पर आएगा। गौरतलब है कि पिछले चुनाव में बीजेपी ने 3 सौ रुपये बोनस देने का वादा किया था। मुख्यमंत्री रमन सिंह ने बताया कि दिल्ली प्रवास में उन्होंने पीएम मोदी और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह से छत्तीसगढ़ के अकाल के बारे में जानकारी दी थी। सूखे के हालात के बारे में बताया था। जिसके बाद पिछले साल का बोनस देने पर सहमति बनी।

छत्तीसगढ़ के किसानों को धान बोनस योजना|

दीपावली के पहले 13 लाख किसानों को करीब 2100 करोड़ रुपये का बोनस बांट दिया जायेगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि किसानों को इस फैसले से बड़ा राहत मिलेगा। उन्होने कहा कि पिछले साल के धान का बोनस इस साल दीपावली के पहले बांट दिया जायेगा। वहीं इस साल होने वाले धान का बोनस अगले साल विकास यात्रा के पहले बांट दिया जायेगा। ज्ञात हो कि छत्तीसगढ़ में सूखे के हालात है, लिहाजा किसान बेहद परेशान हैं, और राज्य सरकार पर कांग्रेस लगातार निशाना साध रही है।

ऐसे में किसानों के गुस्से को कम करने के लिए रमन सरकार ने ये फैसला लिया। इससे पहले करीब दो घंटे से ज्यादा बीजेपी की महत्वपूर्ण बैठक चली। इस बैठक में प्रदेश प्रभारी अनिल जैन, मुख्यमंत्री रमन सिंह, प्रदेश अध्यक्ष धरमलाल कौशिक, राष्ट्रीय महामंत्री सरोज पांडेय सहित सभी विधायक और सांसद पार्टी पदाधिकारी और किसान मोर्चा और पिछड़ा वर्ग प्रकोष्ठ के पदाधिकारी मौजूद थे।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.