अग्निपथ प्रवेश योजना

केंद्र सरकार सरकार ‘अग्निपथ प्रवेश योजना’ (Agnipath Recruitment Scheme) लागू करने जा रही है. इसके तहत तीनों सेनाओं में युवाओं को तीन साल के लिए सैनिक के रूप में भर्ती किया जाएगा और इन्हें ‘अग्निवीर’ (Agniveer) नाम दिया जाएगा|भारतीय सेना में भर्ती होने के लिए अब सरकार ‘अग्निपथ प्रवेश योजना’ (Agnipath Recruitment Scheme) लागू करने जा रही है. इसके तहत तीनों सेनाओं में युवाओं को तीन साल के लिए सैनिक के रूप में भर्ती किया जाएगा और इन्हें ‘अग्निवीर’ (Agniveer) नाम दिया जाएगा. इससे सशस्त्र बलों की औसत उम्र में कमी आएगी. साथ ही रिटायरमेंट और पेंशन के रूप में सरकार पर बोझ नहीं पड़ेगा. वहीं सेना में भर्ती होने के इक्षुक युवाओं को मौका भी मिलेगा|

सेना की भर्ती की प्रक्रिया में जल्द बदलाव होने वाला है. मोदी सरकार इसके लिए ‘अग्निपथ प्रवेश योजना’ लाने वाली है. इसके तहत सेवा में आए सैनिकों को ‘अग्निवीर’ कहा जाएगा और वे 3 वर्ष की नौकरी कर सकेंगे| नए सिस्टम के तहत सेवा में आए सैनिकों को ‘अग्निवीर’ कहा जाएगा और सैनिक मात्र तीन वर्ष की नौकरी के बाद सेना से हट जाएंगे और वे सिविल सेक्टर की नौकरियों में ट्राई कर सकेंगे. बताया जा रहा है कि अब सरकार 3 वर्ष के लिए ही अग्निवीरों का चयन करेगी. इस दौरान उन्हें अलग-अलग क्षेत्रों की कठिन चुनौतियों से गुजरना होगा|

प्रधानमंत्री स्‍वनिधि योजना 2022 

agneepath yojana in hindi

बता दें कि कोविड के कारण सैन्य भर्तियों का काम बिल्कुल ठप पड़ गया. ऐसे में सेना में जवानों की संख्या में काफी कमी हो गई है. भारत की थल सेना (Indian Army), जल सेना (Indian Navy) और वायु सेना (Indian Air Force) के आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक, सेना के तीनों अंगों में अभी सवा लाख से ज्यादा सीटें खाली हैं|आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक सेना के तीनों अंगों में अभी 1,25,364 रिक्तियां हैं।

स्ट्रीट वेंडर लोन योजना

अग्निपथ प्रवेश योजना क्या है

तीन साल के बाद क्या होगा
1- सेनाओं के पास यह विकल्प भी रहेगा कि वे कुछ अग्निवीरों को स्थायी सेवा में शामिल कर सकते हैं. सेनाएं संविदा सैनिकों (अग्निवीरों) को उनके 3 साल के दौरान किए गए काम के आधार पर इसका फैसला लेंगे.

2- ये अग्निवीर बाद में कॉरपोरेट सेक्टर में भी नौकरी कर सकेंगे. ऐसे युवाओं को कॉरपोरेट जगत में अच्छी मांग हो, इसके लिए सेना योजना बना रही है. बताया जा रहा है पिछले दो साल में कॉरपोरेट खिलाडियों ने ऐसे युवाओं की मांग की थी. इसके लिए सरकार उनके संपर्क में है|

प्रधानमंत्री आवास योजना 2022 नई लिस्ट

किसे मिलेगा मौका, कहां होगी तैनाती?
बताया जा रहा है इस योजना के तहत सेना में भर्ती कराने के लिए IIT और अन्य प्रोफेशनल स्ट्रीम के युवाओं को प्राथमिकता दी जाएगी. इन्हें कड़ी ट्रेनिंग देने के बाद जम्मू-कश्मीर और पूर्वोत्तर में तैनात किया जाएगा. ये आतंकी गतिविधि से निपटने, खुफिया जानकारियां जुटाने व सूचना टेक्नोलॉजी जैसे काम करेंगे|

Army Bharti Scheme

एक रिपोर्ट के मुताबिक साल 2017 में पहली बार यह प्रयोग किया गया था जब रिटायर हुए सैनिकों को दोबारा सेवा का अवसर दिया गया था. इसे टूर ऑफ ड्यूटी स्कीम का नाम दिया गया था. चूकीं अग्निपथ प्रवेश योजना के जरिए इन सैनिकों की भर्ती होगी इसलिए जवानों को अग्निवीर का नाम दिया जाएगा. जवान सेना से रिटायर होने के बाद दूसरी सिविल सेवाओं में जा सकेंगे. अग्निवीरों की तैनाती 3 साल के लिए होगी. 

Agneepath Entry Scheme: 

रक्षा बलों के खर्च और आयु प्रोफाइल को कम करने की दिशा में सरकार अग्निपथ एंट्री स्‍कीम नामक एक नई योजना की घोषणा करने के लिए तैयार है. इसके तहत युवा तीन साल की अवधि के लिए सेना में शामिल होंगे और देश सेवा करेंगे. शीर्ष सरकारी सूत्रों ने इंडिया टुडे को जानकारी दी कि युवा अग्निपथ प्रवेश योजना के माध्यम से सेना में प्रवेश करेंगे और सेना में अपने कार्यकाल के दौरान अग्निवीर के रूप में जाने जाएंगे|

Agneepath yojana eligibility|agneepath yojana age limit

अग्निपथ योजना केलिए आवेदक की आयु सीमा 18 वर्ष से 34 वर्ष तक होनी आवश्यक है।

34 वर्ष तक के आम नागरिकों को अग्निपथ योजना के तहत अग्निवीर के तौर पर भर्ती किया जा सकता है।

Agneepath yojana qualification

Indian army agneepath pravesh bharti yojana के तहत इंडियन आर्मी में 3 साल के लिए भर्ती होने केलिए योग्यता विभिन्न पदों के अनुसार हो सकती है।

जिसमे 10वी पास, ग्रेजुएट, iit पास आउट युवाओं को प्राथमिकता दी जा सकती है।

साथ ही फिजिकली फ़ीट, शारीरिक एवं मानसिक सशक्त अभ्यथियों को चयनित किया जाएगा।

One thought on “Agneepath Yojana|अग्निपथ प्रवेश योजना क्या है”
  1. Ager yesa hua to , hum garib logonka kya hoga , 3 sal ke baad hame bhik magana padega sadko pee 😭😭😭

Leave a Reply

Your email address will not be published.