[संजीवनी] महाराष्ट्र नानाजी देशमुख कृषि संजीवनी योजना

[संजीवनी] महाराष्ट्र नानाजी देशमुख कृषि संजीवनी योजना

महाराष्ट्र नानाजी देशमुख कृषि संजीवनी योजना|नानाजी देशमुख कृषि संजीवनी योजना|महाराष्ट्र  कृषि संजीवनी योजना|महाराष्ट्र नानाजी कृषि संजीवनी योजना|

महाराष्ट्र प्यारे देशवासियों महाराष्ट्र के मुख्यमंत्रीछोटे और मध्यम वर्ग के किसानों की आर्थिक मदद के लिए महाराष्ट्र नानाजी देशमुख कृषि संजीवनी योजना  शुरुआत की है|इस परियोजना के लिए विश्व बैंक से आंशिक वित्त पोषण सहित 4000/- करोड़ रुपये आवंटित किए हैं|इस योजना के अंतर्गत, महाराष्ट्र में उपस्थित सुखे क्षेत्रो की पहचान की जाएगी और इस समस्या से छुटकारा पाने के उपाय भी खोजे जाएंगे।महाराष्ट्र नानाजी देशमुख कृषि संजीवनी योजना नानाजी देशमुख कृषि संजीवनी योजना महाराष्ट्र  कृषि संजीवनी योजना महाराष्ट्र नानाजी कृषि संजीवनी योजनाके तहत मुख्य विषय यह है कि महाराष्ट्र के जिले सूखा पड़ता है| और जहां पर आज उपज नहीं होती वहां की मिट्टी की गुणवत्ता की जांच की जाएगी|

महाराष्ट्र नानाजी देशमुख कृषि संजीवनी योजना

प्यारे दोस्तों आप जानते हैं महाराष्ट्र कृषि प्रधान राज्य है यहां पर लोग बड़े पैमाने पर खेती करते हैं पर महाराष्ट्र में कुछ ऐसे क्षेत्र पर सूखा पड़ता है और वहां की मिट्टी की गुणवत्ता अच्छी नहीं है| लेकिन अब महाराष्ट्र नानाजी देशमुख कृषि संजीवनी योजना के तहत मिट्टी की गुणवत्ता की जांच की जाएगी और उस मिट्टी में बताया जाएगा कि पोषक डाले जाएं जिस मिट्टी की गुणवत्ता बढ़ जाए मिट्टी की को नई संजीवनी मिल सके महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री ने योजना की महाराष्ट्र  कृषि संजीवनी योजना शुरुआत की है|

महाराष्ट्र नानाजी देशमुख कृषि संजीवनी योजना लाभ

महाराष्ट्र नानाजी देशमुख कृषि संजीवनी योजना योजना जलवायु के अनुकूल और अनुकूलनीय कृषि पद्धतियों के अभ्यास पर केंद्रित होगी। नई योजना से राज्य के भीतर मध्यम और छोटे दोनों ही किसानों को सहायता की पेशकश की जा सकती है। इस योजना के अंतर्गत राज्य सरकार का उद्देश्य उन क्षेत्रों की पहचान करना है, जो सूखा-मुक्त करने के लिए सबसे बुरी तरह प्रभावित हैं।इसके अंतर्गत, भूमि और पानी की उर्वरकता का भी परिक्षण किया जाएगा ताकि कृषि क्षेत्र में विकास संभव हो सके। इस योजना का मुख्य उद्देश्य बदलती हुई जलवायु में कृषि उपज में वृध्दि कर छोटे और मध्यम किसानो का विकास करना है। इस योजना के अन्य उद्देश्य मृदा की गुणवत्ता में सुधार करना, खाद्य धान की किस्मो का विकास और क्षेत्र में उपलब्ध पानी के अनुसार खेती की तकनीको को अपनाना भी इस योजना के प्रमुख उद्देश्य है।

महाराष्ट्र नानाजी देशमुख कृषि संजीवनी योजना लाभ

महाराष्ट्र सरकार की 4000 करोड़ की परियोजना है। इस परियोजना के लिए विश्व बैंक से 70% (2800 करोड़ रूपए) वित्तीय सहायता प्रदान की जाएगी बाकि शेष राज्य सरकार द्वारा वहन किया जाएगी। जलवायु में परिवर्तन के समय छोटे और मध्यम किसान सबसे ज्यादा प्रभावित होते है, इसलिए इस योजना के द्वारा इन किसानो को लाभ दिया जाएगा। यह योजना वर्ल्ड बैंक के सहयोग से लागू की जाएगीं

  • महाराष्ट्र सरकार 15 जिलों के 5,142 गांवों में कृषि संजीवनी योजना को लागू करेगा।
  • इसके बाद सरकार 2022 तक किसानों की आय को दोहरीकरण के उद्देश्य से आगामी 6 वर्षों (2018-2024) के लिए यह योजना जारी रहेगी।
    कृषि सचिव के नेतृत्व वाले 7 सदस्यों की एक समिति इस योजना को लागू करने के लिए सूखाग्रस्त गांवों की पहचान करेगी।
  • यह परियोजना आगामी वित्तीय वर्ष में शुरू होगी।
  • नानाजी देशमुख कृषि संजीवनी योजना के तहत सरकार पानी की उपलब्धता के अनुसार फसलों की खेती पर विशेष जोर दिया जाएगा।यह कृषि संजीवनी योजना 2018-19 के वित्तीय वर्ष में शुरू हो जाएगी और 2023-24 तक जारी रहेगी।
महाराष्ट्र नानाजी देशमुख कृषि संजीवनी योजना अधिक जानकारी के लिए इस वेबसाइट पर क्लिक करें
प्यारे दोस्तों महाराष्ट्र नानाजी देशमुख कृषि संजीवनी योजना जानकारी किस प्रकार लगी अगर आप इससे संबंधित कोई प्रश्न पूछना चाहते हैं तो हमारे कमेंट बॉक्स में लिख दीजिए हम उसका उत्तर अवश्य देंगे आप हमारे फेसबुक पेज को लाइक और शेयर कर सकते हैं इससे आप महाराष्ट्र में की योजनाओं के साथ अपडेट रहेंगे|
CATEGORIES
TAGS
Share This

COMMENTS

Wordpress (44)
  • comment-avatar
    राजू रमेश कुकडे 3 days

    मला नानाजी देशमुख क्रुषि योजना अंतर्गत शेळी पालन करायचे आहे ..

  • Disqus (0 )
    error: Content is protected !!